वास्तु के अनुसार कैसा हो ड्राइंग रूम | Drawing Room Vastu Tips

घर का सबसे सुन्दर हिस्सा होता है ड्राइंग रूम जहाँ पर हम हमारे मेहमानों
का स्वागत करके उन्हें आदर के साथ बैठाते है। ये वो जगह जहाँ हम हमारे परिवार के
साथ मस्ती करते हैं और उठते बैठते हैं। घर के इस हिस्से में सकारात्मक ऊर्जा होनी
चाहिए जो वास्तु के कुछ जरुरी टिप्स अपना कर पाया जा सकता है और बनाया रखा जा सकता
है। बैठने की जगह, दरवाजा, खिड़कियाँ आदि सभी अगर वास्तु के हिसाब से हो तो आपके के
लिए और आपके मेहमानों के लिए काफी फायदेमंद होता है। चलिए जानते हैं कुछ जरुरी
वास्तु टिप्स ड्राइंग रूम के लिए।





  1. वास्तु के अनुसार अगर आपके घर में लिविंग रूम
    फ्रंट फेसिंग है तो इसके लिए उत्तर की दिशा सबसे ज्यादा उपयुक्त होती है। इस दिशा
    में होनी की वजह से आपको काफी लाभ होगा
  2. ड्राइंग रूम में आप जब भी बैठे आपका मुंह पूर्व या
    उत्तर की दिशा होना चाहिए।
  3. जब भी आप कोई जरुरी फैसला ड्राइंग रूम में बैठके
    लेते हैं जैसे व्यापार से या आपके निजी जीवन से सम्बंधित फैसले तो आपका मुंह पूर्व
    या उत्तर दिशा में होना चाहिए।
  4.  ड्राइंग रूम का दरवाजा भी वास्तु के हिसाब से होना
    चाहिए। उत्तर दिशा की तरफ ड्राइंग रूम का दरवाजा होना चाहिए।
  5.  कुछ लोग ड्राइंग रूम में खाना खाते हैं और इसलिए
    वो अपना डाइनिंग टेबल टेबल ड्राइंग रूम में रखते हैं, अगर ऐसा है तो आपको ये टेबल
    आग्नेय कोण के बीच होना चाहिये। इस दिशा में रखने से घर वालो की सेहत अच्छी रहती
    है।
     ड्राइंग रूम में दीवार पर घडी उत्तर दिशा या पूर्व
    दिशा की और होना चाहिए। जहाँ पर आप बैठते हैं ठीक सामने वाली दीवार पर घडी होनी
    चाहिए। ये वास्तु के हिसाब से शुभ होता है।
  6.  वास्तु के अनुसार ड्राइंग रूम का फर्नीचर पश्चिम
    या दक्षिण दिशा की और होना चाहिए।
  7.  घर में अगर एक्वेरियम या फाउंटेन है उसे ड्राइंग
    रूम के उत्तर पूर्वी कोने में होना चाहिये।
  8.  खिड़कियाँ ड्राइंग रूम के पूर्वी दीवार या उत्तर
    दिशा में होना चाहिए। इससे आपके घर में पर्याप्त प्राकर्तिक रौशनी होगी।
  9.  लैंडलाइन फ़ोन ड्राइंग रूम के दक्षिण पश्चिम दिशा
    में होना चाहिए।
  10.  ड्राइंग रूम के इलेक्ट्रॉनिक सामान को दक्षिण पूर्व
    दिशा में रखे।
  11. यदि आपके घर में एयर कंडीशनर या कूलर लगा हुआ है
    तो उसकी दिशा आग्नेय कोण या पश्चिम दिशा होनी चाहिए।
  12.  पीला, हल्का नीला, हल्का हरा और क्रीम कलर ड्राइंग
    रूम के लिए बेस्ट माना जाता है।
  13. वास्तु शास्त्र के अनुसार ड्राइंग रूम में साज
    सजावट के लिए बनाये गये शोकेस या कोई अलमारी दक्षिण या दक्षिण पश्चिम दिशा में
    होना उपयुक माना जाता है।
  14.  ड्राइंग रूम में जब भी कोई पेंटिंग या शो पीस
    लगाये इस बात का ध्यान रखे कों वो प्राकर्तिक दृश्य का होना चाहिए न कि किसी लड़ाई,
    क्रोध या मृत्यु से सम्बंधित।

ऊपर दिए सभी वास्तु टिप्स अपनाइए और किसी वास्तु विशेषज्ञ की निगरानी में
ड्राइंग रूम बनवाइए और सजाइए और अपेक्षित परिणाम पाईये।

ये भी पढ़े   नमक के टोटके और फायदे - Namak ke totke aur fayde in Hindi
टैग्स: , ,
Previous Post

कैसा हो वास्तु के अनुसार रसोई का रंग – vastu colors for kitchen

Next Post

कछुआ अंगूठी की जानकारी – कछुआ के फायदे – कछुआ वास्तु इन हिंदी

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *