कमजोर सूर्य ग्रह के उपाय

सूर्य ग्रह को मजबूत करना है तो करें ये उपाय : Surya Grah Upay

सूर्य ग्रह को कैसे मजबूत करें

सूर्य नवग्रहों में राजा माना जाता है और सूर्य ग्रह का हमारे भाग्य पर विशेष प्रभाव पड़ता है। हमारा सूर्य ग्रह उच्च का है तो हमें  कार्य क्षेत्र में विशेष प्रगति मिलती है। हम सर्विस, व्यापार या राजनीति जिस भी क्षेत्र से जुड़े होते हैं उस क्षेत्र में सफलता हासिल करते हैं। अगर हमारा सूर्य नीच का होता है तो हमें कार्य में सफलता नहीं मिलती। हम अपने पथ से भटकने लगते हैं। हम अधिकता बीमार रहते हैं। सूर्य ग्रह के खराब होने पर गुरु, देवता और पिता से अच्छे संबंध नही रहते। राज्य की ओर से आर्थिक दंड मिलने लगता है। नौकरी चली जाती है। काम में दिक्कतें आने लगती है। सोना खोने लगता है या चोरी होने लगती है कुछ राशियों में जैसे कि तुला राशि में अधिकतर सूर्य नीच का होता है ऐसी परिस्थितियों में हमें घबराने की आवश्यकता नहीं है। हम भगवान सूर्य की उपासना करके भी अपने सूर्य ग्रह को मजबूत कर सकते हैं । पहले हम ये जानते हैं कि हमारा सूर्य ग्रह कमजोर किन परिस्थितियों में होता है।

सूर्य ग्रह कमजोर कैसे होता है?

अगर सूर्य ग्रह नीच का होता है तो आपकी सारी राशियां आपके लिए नकारात्मक हो जाती है क्योंकि सूर्य सभी राशियों का स्वामी है। आपकी कुंडली से ज्ञात होता है कि आपके कौन-कौन से ग्रह कमजोर है और कौन कौन से ग्रह मजबूत है। कुंडली से ही पता चलता है आपका सूर्य ग्रह कमजोर है या नहीं। लेकिन हमारे दैनिक क्रियाकलाप भी हमारे सूर्य ग्रह पर और अन्य ग्रहों पर असर डालते हैं। अगर हम अपनी दिनचर्या को कुछ परिवर्तित कर दें तो हमारे जो ग्रह कमजोर होते हैं वह मजबूत होने लगते हैं। तो आइए जानते हैं कि सूर्य ग्रह कमजोर होने के लक्षण?

ये भी पढ़े   कछुआ अंगूठी की जानकारी - कछुआ के फायदे - कछुआ वास्तु इन हिंदी

घर की पूर्व दिशा में वास्तु दोष होने से

अगर हम पूर्व दिशा को साफ सुथरा में रखें और वास्तु के अनुसार उपयोग ना करें तो हमारा सूर्य ग्रह कमजोर हो सकता है पूर्व दिशा यानी कि ईशान दिशा हमारा भगवान सूर्य का स्थान है, और यह स्थान घर के पूजा पाठ के लिए सबसे उपयुक्त है, इसलिए अगर हम पूर्व दिशा को सही प्रकार से उपयोग में नहीं लाते गंदा रखते हैं तो फिर हमारे पूर्व पूर्व दिशा दूषित हो जाती है, और हमारी सूर्य ग्रह कमजोर होते हैं। सूर्य के खराब होने पर गुरु देवता और पिता मदद नहीं करते राज्य की ओर से आर्थिक दंड मिलने लगता है। नौकरी चली जाती है। काम में दिक्कतें आने लगती है सोना खोने लगता है या चोरी होने लगती है।

विष्णु भगवान की पूजा न करने से

सूर्य ग्रह को मजबूत करने के लिए हमें विष्णु भगवान की पूजा करनी चाहिए। घर की साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए और घर में सुबह शाम दीया बाती करनी चाहिए। विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ रोज सुबह करना चाहिए। अगर आप सुबह ना भी कर सके तो बृहस्पतिवार के दिन तो अवश्य करना चाहिए।

पिता का सम्मान न करने से

पिता का सम्मान तो सभी करना चाहते हैं और करना भी चाहिए क्योंकि पिता पूजनीय होते हैं। उन्होंने ही आप को जन्म दिया होता है। पर आजकल की परिस्थितियों में जबकि कलयुग का आगमन हो चुका है सभी अपने स्वार्थ में लिप्त हैं तो ऐसा भी नहीं है कि आपके अपने इससे दूर हो कभी-कभी माता-पिता भी अपने बच्चों में भेदभाव करते हैं। इन परिस्थितियों में हमें लगता है कि हम उनका सम्मान करें कैसे जो कि हमें अपना ही नहीं मानते। जो हमें प्यार नहीं करते क्योंकि आज के इस बदलते दौर में रिश्ते स्वार्थ से और पैसों से तौले जाने लगे हैं। यह भी हो सकता है कि आपका सूर्य ग्रह कमजोर है इसलिए आपके पिता से आपकी बनती नहीं है। ऐसी परिस्थितियों में भी आपको अपने पिता का सम्मान करना है। उनसे बहस नहीं करनी है और खुद शांत रहना है। ईश्वर से प्रार्थना करनी है कि आपके पिता से आपके संबंध मधुर हो जाए।

ये भी पढ़े   सपने का अर्थ जानिए व बदलिए ज़िन्दगी की रफ़्तार

देर से सोकर उठने से

आजकल के परिस्थितियों में इंसान आधी आधी रात तक जगा रहता है। जिसका परिणाम होता है कि वह सुबह देर से सोकर उठता है। सुबह देर से सो कर उठने के कारण उसकी पूरी दिनचर्या खराब हो जाती है। वह इतनी देर से सोकर उठता है कि भगवान सूर्य को जल चढ़ाने के विषय में तो सोच भी नहीं सकता है। भगवान सूर्य को जल प्रातः समय ही जब सूर्य उदय हो रहा होता है तभी चढ़ाया जाता है। जिसके कारण उसका सूर्य ग्रह कमजोर हो जाता है। देर रात तक जागने से सूर्य नीच का होता है जिसके कारण व्यक्ति अपना संयम त्याग बैठता है।

सूर्य ग्रह के कमजोर होने से शरीर में होने वाली बीमारियां

सूर्य ग्रह के कमजोर होने से शरीर का दाहिना हिस्सा काम करने में धीमा होने लगता है। सूर्य के कमजोर होने से शरीर में हमेशा अकड़न रहती है। कमजोरी बनी रहती है। सूर्य नीच का होने पर शरीर में कंपन रहता है। दिल के रोग होने लगते हैं। बीपी लो या हाई रहता है। त्वचा संबंधी रोग हो जाते हैं। व्यक्ति को बेहोशी के दौरे पड़ने लगते हैं और उसके सिर में हमेशा दर्द बना रहता है। आंखों की समस्याएं हमेशा बनी रहती हैं।

सूर्य ग्रह को मजबूत कैसे करें, सूर्य मजबूत कब होता है

सूर्य ग्रह को मजबूत करने के लिए हमें रोज सूर्योदय से पूर्व उठकर भगवान सूर्य को जल अर्पण करना चाहिए।

सूर्य को जल कैसे दे?

जल में हमें रोली, शहद या गुड़ और चावल, लाल फूल डालकर अर्पण करना चाहिए। हमें सूर्य चालीसा का पाठ रोज सुबह करना चाहिए और साथ ही साथ हमें सूर्य नमस्कार भी अवश्य करने चाहिए। हमें आदित्य ह्रदय स्त्रोत का पाठ सुबह-सुबह अवश्य करना चाहिए।

ये भी पढ़े   मोहिनी का पौधा - mohini plant benefits in hindi

नीच के सूर्य ग्रह का उपाय

सूर्य ग्रह को मजबूत करने के लिए हमें रविवार के दिन व्रत रखना चाहिए। मछलियों को आटे की गोलियां खिलानी चाहिए। चीटियों को आटा खिलाए। बंदर को भोजन दें। अपने बड़ों का सम्मान करना चाहिए। आपको लाल, पीले रंग के वस्त्र दान करने चाहिए। गाय की सेवा करनी चाहिए। गाय के लिए गौ ग्रास अवश्य निकालना चाहिए। सूर्य को मजबूत करने के लिए ओम ह्रां ह्रीं ह्रौं स: सूर्याय नमः मंत्र का जाप करना चाहिए। रविवार के दिन स्नान के बाद लाल रंग के कपड़े पहनने चाहिए। मुंह में मीठा डालकर ऊपर से पानी पीकर ही घर से निकलना चाहिए। तांबे के दो टुकड़े काटकर एक को पानी में बहा दें दूसरे को जीवन भर साथ रखें।

Previous Post

सपने में भगवान शिव को देखना या सपने में शिवलिंग देखना कैसा होता है? sapne me shivling dekhna

Next Post
केतु ग्रह को कैसे मजबूत करें
ग्रह गोचर

केतु ग्रह को कैसे मजबूत करें, केतु के दुष्प्रभाव से कैसे बच्चे