compass

वास्तु कम्पास का उपयोग और फायदा

कम्पास का नाम आपने जरुर सुना होगा।इसे वास्तुकार दिशाओं का पता लगाने के लिए अपने साथ लेकर जाता है।कम्पास उन प्रमुख उपकरणों में से एक है जिसे इसके जानकार वास्तु के अनुसार दिशा, स्थान, व्यवस्था आदि की जांच करने के लिए साथ ले जाते है।
इसी कम्पास के आधार पर जानकार वास्तु के हिसाब से घर, ऑफिस, फैक्ट्री आदि जगह पर दिशा, स्थान और व्यस्व्था का पाता लगाता है।कम्पास का वास्तु में बहुत महत्व है क्योंकि इसके बिना सटीक अनुमान लगाना मुश्किल है।आईये जानते है वास्तु कम्पास के उपयोग क्या है और इसके फायदे क्या है?



1. निर्णायक कम्पास

इस तरह के कम्पास का उपयोग जानकार सटीक दिशा का पाता लगाने के लिए करते है।उनके पास आमतौर पर अंत में सुई में से एक पर लाल टिप होता है और साथ पर रखे जाने के साथ ही सुई अपने आप ही घूम जाती है।जिस दिशा में सुई घुमती है वास्तु के हिसाब से वही दिशा सही मानी जाती है।जैसे अगर सुई की लाल टिप्स N पर है तो इसका मतलब है वह उत्तर दिशा की और इशारा कर रही है।






2. फ्लोटिंग कम्पास

यह कम्पास पुराना कामचलाऊ उपकरण है जो स्वचालित प्रणाली पर काम करता है।इसमें सुई के शीर्ष पर एक डिस्क लगी होती है जो की दिशा का पाता देती है।

वास्तु कम्पास को इस्तेमाल करने के तरीके






  • भूखंड के अनुमानित केंद्र का पता लगाये और वहां पर खड़े रहे।उसके बाद फर्श की साफ़ जगह पर कम्पास को रखें।
  • इस बात का विशेष ध्यान रखें की आपके पास मोबाइल फ़ोन, हाई टेंशन तार या किसी तरह का चुम्बकीय उपकरण नहीं होना चाहिए, क्योंकि यह आपको सही दिशा का पता लगाने से रोक सकते है।
  • सुई को सतह पर रहने दे और उसके बाद लाल रंग की और देखें.
  • जब ऑसिलेटिंग सुई बंद हो जाती है, तो बस इसे घुमाएं या उत्तर की ओर लाल नुकीली सुई को संरेखित करें। लाल रंग दिखाती हुई वह दिशा जो आपका उत्तर है और लाल सुई और अक्षर ‘एन’ के बीच की डिग्री में अंतर, भूखंड की दिशा को डिग्री में प्रदान करता है।
  • यदि विक्षेपण 10 डीग्री से नीचे पाया जाता है तो साजिश संरेखण में एकदम सही है।यदि विपेक्षण अधिक है तो दिशाओं को विकर्ण भूखंड बनाकर गणना करने की जरूरत है।
  • तुरंत मुद्दे पर न आएं, लेकिन उदाहरण केंद्र, सामने या पीछे के लिए अलग-अलग स्थानों से दिशाओं की गणना करनी चाहिए।
ये भी पढ़े   अच्छी सेहत के लिए वास्तु | Best Vastu Tips For Health And Wealth
Previous Post

वास्तु शांति मुहूर्त, गृह प्रवेश मुहूर्त-21 | Griha pravesh muhurat

Next Post
क्रासुला के पौधें के फायदे
पौधे

क्या हो जाता है जब लगा लेते है क्रॉस्सुल का पौधा ? क्रसुला लगाने के फायदे