वास्तु दोष के कारण आ रही है रुकावट ? वास्तु दोष क्या है ?



वास्तु एक पूल है मानव और प्रकृति के बीच। हम जितने आधुनिक हो रहे है उतना ही दूर हो रहे हमारे वेदों से। वास्तु एक विज्ञानं है सभी चीज़ो को सही जगह पर रखना और प्रकृति के तत्वों क साथ संतुलन बनाये रखने का। अगर कोई घर या काम करने की जगह कोई भी वास्तु का सिद्धांत का उल्लंघन करता है तो फिर उससे vastu dosh कहा जाता है। वास्तु दोष के कारन उस भवन में रह रहे व्यक्तियों को पारिवारिक , सार्थिक और सामाजिक मुसीबतों का सामना करना पढ़ता है। हर वास्तु दोष के उपाय होते है ताकि वो vastu dosh हटाया जा सके। वास्तु दोष के निवारण के कई तरीके है , जैसे की कमरे के सामान की जगह बदलना, घर का आतंरिक डिज़ाइन बदलना। अगर vastu dosh निवारण बताये गए माने जाते है तोह घर की सुख शान्ति और ख़ुशी लौट आती है। 

vastu dosh के कारन बहुत सारे है। कुछ वास्तु दोष के कारन हो सकते है जैसे की घर मे रह रहे लोगो की वजह से भी वास्तु खराब होता है। अगर घर मे रहने वाले लोग अनैतिक आचरण करते हो तोह उस वजह से भी घर का वास्तु ख़राब होता है। कई बार ऐसा भी होता है की घर का वास्तु सही है पर फिर भी घर मे सब सही नहीं लगता। इसका एक ही कारन है जो की है नकारात्मक ऊर्जा जो घर मे होती है।

 कैसे पहचाने की घर मे वास्तु दोष है ?



vastu dosh की लक्षण बहुत सारे है :

  •  यदि आप सर्दी झुकाम से ज्यादा पीड़ित रहते है तो इसका मतलब है की मकान मे ब्रह्मस्थल पे दोष है। 
  • यदि घर के अग्नि कोण और ईशान कोण में वास्तु दोष है तो फिर घर के लोगो लो दिएबेटीएस होने की संभावनाए ज्यादा है। 
  • Vastu tips for house के according अगर घर के लोग हीन भावना रखते है तो इसका मतलब है की माकन के उत्तर पश्चिम या दक्षिण पश्चिम प्रकार मे वास्तु दोष है। 
  • vastu tips for home के according यदि आपका माकन गल्ली का आखरी माकन है तो घर के सदस्य ज्यादातर कष्ट मे रहते है। 
  • अगर घर पर किसी भी वृक्ष या मंदिर की छाया पढ़ रही है तोह घर के सदस्य ज्यादातर किसी न किसी रोग क शिखर रहते है। 
  • अगर नैऋृत्य कोण मे कोई कुवां है तो फिर उस घर के सदस्यों की आयु क्षय होती है। 

वास्तु दोष के सरल उपाय (vastu tips)


कुछ वास्तु दोष निवारण हेतु उपाय यहाँ दिए गए हुए है। यह सभी उपाय वास्तु दोष से कैसे बचें के सवाल का जवाब देते है। 

  • वास्तु के अनुसार सीढियाँ की उचाई तरीके की उचाईयों तक पहुँचने मे मदद कर सकती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में बनाई गई सीढ़ियां बहुत महत्वपूर्ण होती है। वास्तु के अनुसार सीढियाँ घर के उत्तर से दक्षिण दिशा की ओर होना चाहिए अथवा पूर्व से पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए। 
  • वास्तुशास्त्र के नियम के अनुसार घर मे पूजा घर ईशान कोण मे होना चाहिए। 
  • पूजा घर मे ईशान कोण मे जल का कलश होना चाहिए। 
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में कभी भी झाड़ू खड़ी नहीं रखनी चाहिए। 
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार घर मे अपने आप खुलने वाले दरवाज़े नहीं होने चाहिए। 
  • घर की खिड़कियां खुली रेहनी चाहिए ताकि रौशनी हमेशा अंदर आती रहे। 
  • वास्तु दोष से बचने का उपाय यह भी हो सकता है की जरूरी कागजात हमेशा अलमारी मे रखने चाहिए। 
  • vastu tips for kitchen के according kitchen मे भोजन बनाते समय पहली रोटी या तो गाय को या अग्निदेव को अर्पित करें।
ये भी पढ़े   क्या आपके घर में भी तो नहीं है ये वास्तु दोष के लक्ष्ण ?
टैग्स:
Previous Post

शादीशुदा जिंदगी को अच्छा बनाने के वास्तु टिप्स – Vastu Tips For Married Life

Next Post
वास्तु शास्त्र में दिशाओं का महत्व
वास्तु

वास्तु शास्त्र में दिशाओं का महत्व