vastu for bedroom

वास्तु के हिसाब बेडरूम के लिए कलर कॉम्बिनेशन कैसा होना चाहिए ?

बेडरूम घर में सबसे मुख्य चीज होती है जहाँ पर हम आराम करते है, तैयार होते है और सोते है।इसके अलावा हमारे पर्सनल जितने काम होते है हम अपने बेडरूम में करना पसंद करते है।बेडरूम में वास्तु का ध्यान रखना बहुत जरुरी है क्योंकि इसमें कोई भी गलती होने पर इसका सीधा असर रिश्ते पर पड़ता है।
बेडरूम कैसा होना चाहिए, कौनसी चीज बेडरूम में कहाँ होनी चाहिए, कौनसी चीजें बेडरूम में नहीं होनी चाहिए, बेडरूम में कलर कॉम्बिनेशन कैसा होना चाहिए सब में वास्तु का ध्यान रखना बहुत जरुरी है।अगर बेडरूम का वास्तु सही है तो आपका रिश्ता मजबूत बना रहेगा और घर के स्वामी पर किसी तरह की विपदा नहीं आएगी।
बेडरूम में कलर कॉम्बिनेशन का ध्यान रखना बहुत जरुरी है।बेडरूम क्या पुरे घर में अगर वास्तु के हिसाब से कलर किया जाए तो बहुत शुभ माना जाता है और मन भी शांत रहता है तथा घर में सकारात्मक एनर्जी आती है।लेकिन आज की इस पोस्ट में हम बेडरूम के कलर कॉम्बिनेशन के बारे में बात करेंगे, की बेडरूम में किस तरह का कलर कॉम्बिनेशन वास्तु के हिसाब से सही माना जाता है।

वास्तु के हिसाब बेडरूम के लिए कलर कॉम्बिनेशन कैसा होना चाहिए?






  • बेडरूम में हरा या नीला, गुलाबी आदि रंग का प्रयोग किया जाना चाहिए।यह रंग वास्तु के हिसाब से शुभ माने जाते है।
  • बच्चों को अगर आपके कमरे में सुलाया जाता है तब तो ठीक है और अगर उन्हें किसी अलग कमरे में सुलाया जाता है तो उनके कमरे में काला, नीला और हरा रंग शुभ माना जाता है।
  • मास्टर बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए और उसमे नीला रंग अच्छा माना जाता है।
  • बेडरूम में कभी भी लाल रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह रंग हमें नर्वस करता है और खतरे का संकेत है।बेडरूम क्या घर में किसी कमरे में लाल रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यह रंग बहादुरी और शक्ति का प्रतीक है जिस वजह से दिमाग पर इसका असर तेजी से होता है।
  • जो बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में होते है उनमे गुलाबी कलर बहुत अच्छा माना जाता है और यह कलर बहुत सुहाना भी लगता है।
  • बेडरूम में आसमानी रंग का प्रयोग करना अच्छा माना जाता क्योंकि इस रंग को नई शुरुआत, सुख-शांति और सुकून देने वाला माना जाता है।
  • सफ़ेद रंग को भी सबसे सही माना जाता है क्योंकि इस रंग के साथ हर रंग का तालमेल अच्छे से बैठता है।सफ़ेद रंग पवित्रता, शांति, सुन्दरता और सुकून का प्रतीक है।
  • जिनकी अभी नई-नई शादी हुयी है उनके रूम में हल्के बैंगनी रंग का इस्तेमाल करना शुभ माना जाता है और इससे रिश्ता मजबूत बनता है।
  • एक ही बेडरूम की चारों दीवारों पर कभी भी अलग-अलग रंग नहीं करना चाहिए इससे रिश्तों में और घर में तनाव बढ़ता है।
  • घर में लाल, काला और घर पीला रंग से बचना चाहिए क्योंकि यह रंग राहू, शनि, मंगल और सूर्य का प्रतिनिधित्व करते है जिससे यह रंग किसी को सूट नहीं होते।
ये भी पढ़े   भूखंड से संबंधित वास्तु टिप्स - vastu for plots
Previous Post

वास्तु के हिसाब से घर के दरवाजे कैसे होने चाहिए – घर के दरवाजे का वास्तु

Next Post
Aquarium
वास्तु

फिश एक्वेरियम से जुड़े वास्तु टिप्स