maxresdefault (2)

गैराज से संबंधित वास्तु टिप्स

आज बहुत ही कम लोग इस बात को जानते है की अगर घर में गैराज की दिशा सही नहीं हो तो बहुत से वास्तु दोषों को आप घर में आमंत्रित कर रहे है। हम पूरा घर तो वास्तु के अनुसार बनाते है गैराज आदि बनाने में लापरवाही कर देते है जिस से वास्तु के दोष पैदा हो जाते है। वास्तु शास्त्र के नियम सिर्फ घर की बनावट, सजावट तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसके दायरे में पार्किंग एरिया भी आता है। क्योंकि, इस जगह आपके वाहन खड़े होते हैं, जो आपकी जिंदगी का अहम हिस्सा भी हैं। इसलिए पार्किंग की दिशा में वास्तु के नियमों का पालन करना चाहिए। पर आप को बहुत से बातें ऐसी है जिसका ख्याल गैराज बनाते समय रखना चाहिए आज हम इस लेख में उन बातों को आप तक लेकर आए है।

पार्किंग के लिए उचित दिशा






  • पार्किंग के लिए हमेशा उत्तर दिशा का चुनाव करना चाहिए। अगर पार्किंग के लिए उत्तर दिशा में जगह न हो, तो इसके लिए आप दक्षिण-पूर्व दिशा का भी चयन कर सकते हैं।
  • अगर आप बेसमेंट में पार्किंग एरिया बनाने जा रहे हैं, तो इस बात का ध्यान रखें कि वाहनों का एंट्री गेट उत्तर, पूर्व या उत्तर-पश्चिम दिशा में हो।
  • पूर्व और उत्तर दिशा का उपयोग छोटे वाहनों के लिए किया जा सकता है। बड़े वाहनों को इस दिशा में खड़ा नहीं करना चाहिए। बड़े यानी की कार, जीप जैसे वाहन उत्तर-पूर्वी दिशा में पार्क नहीं करना चाहिए। वास्तु दोष के अनुसार ऐसा करने से आर्थिक नुकसान की संभावना बढ़ जाती है। घर प्रमुख को बहुत सी वहीं मानसिक परेशानियां भी पैदा हो सकती है। इस ज़ोन में पार्किंग को कवर करने से स्थितियां बिगड़ सकती हैं।
  • छोटे वाहन यानी स्कूटर, बाइक, साइकिल उन्हें ईशान कोण में पार्क करना चाहिए। घर के कोने में कोई भी वाहन पार्क न करें, क्योंकि इस जगह पर निगेटिव एनर्जी ज्यादा होती है। पर ध्यान रहे कि यह बिल्कुल कोने में न हों और 24 घंटे खड़े न रहें।
  • कार, स्कूटर या आपके पास जो भी वाहन हों, इस बात का भी विशेष ध्यान रखें कि इनको घर में, दक्षिण दिशा की ओर मुँह करके खड़ा न करें, इसे शुभ नहीं माना जाता, इससे यात्रा का पूरा लाभ नहीं मिलता व वाहन का मेन्टेनेंस भी बढ़ सकता है।
  • वाहन को ऐसी जगह ना खड़ा करें जहां ऊपर कीसी तरह की बीम हो। वाहन को बीम की सीध से हटते हुए कीसी दूसरी जगह पर खड़ा करना चाहिए। कार को कभी भी पश्चिम या दक्षिण की ओर मुंह करके खड़ी नहीं करना चाहिए। इससे अग्नि दुर्घटना होने की आशंका रहती है।
  • व्यवसायियों को वाहन का अगला हिस्सा उत्तर दिशा की तरफ रख कर खड़ा करना चाहिए इस से वास्तु के हिसाब से उन्हे अच्छे सौदे मिलने की संभावनाएं बनी रहती है। जबकि नौकरी वालों को वाहन का अगला हिस्सा पूर्व की ओर रख कर पार्क करना चाहिए।
  • अगर आप गैराज के लिए धातु की पतरो का प्रयोग करना चाहते है तो इसका निर्माण उत्तर-पूर्व दिशां में नहीं करना चाहिए।
  • गैराज के फर्श की दिशा उत्तर या पूर्व की और होनी चाहिए।
  • इस स्थान पर अगर पानी के भरने की समस्या हो तो उसे तुरंत ही दूर करना चाहिए। गैराज में अग्नि तत्वों को नहीं रखना चाहिए। बहुत से लोग पैट्रोल आदि का स्टॉक कर गैरज में रखते है जो की सही नहीं होता।
  • गैरेज के प्रवेश द्वार की ऊंचाई घर के मुख्य द्वार की ऊंचाई से कम होना चाहिए। गैरेज की दीवारों पर सफेद, क्रीम, पीला या कोई भी हल्का कलर करना शुभ होता है।
ये भी पढ़े   छूट गया अगर एक भी पंचतत्व तो होगा नुकसान
Previous Post

वास्तु के हिसाब से घर के दरवाजे कैसे होने चाहिए – घर के दरवाजे का वास्तु