वास्तु के अनुसार पानी का टैंक कहां बनाना चाहिए? शुभ दिशा कोनसी है

वास्तु के अनुसार पानी का टैंक कहां बनाना चाहिए? शुभ दिशा कोनसी है

पानी का टैंक कहां बनाना चाहिए

ज्योतिष शास्त्र में सबसे ज्यादा महत्व वास्तु को दिया गया है, जो चीज वास्तु के अनुसार बनी है उसमे कभी भी दिक्कत नहीं आती और उस घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का वास रहता है। इसलिए घर बनाने से पहले नींव की पूजा की जाती है और घर बनाते समय वास्तु का ध्यान रखा जाता है तथा घर बनने के बाद पूजा और हवन किया जाता है ताकि घर में बुरी शक्तियाँ ना  आये।
इसी तरह घर में सबसे ख़ास चीज होती पानी की टंकी । जल जीवन की सबसे आवश्यक जरूरत है, क्योंकि कहते है ना जल है तो कल है और जल ही जीवन है। इसी जल का संग्रह करने के लिए हम घर में छत के उपर पानी की टंकी बनवाते
है या फिर आँगन में जमीन के नीचे पानी का टैंक बनवाते है, ताकि जरूरत पड़ने पर पानी के संग्रह को काम में ले सके।

घर में पानी का टैंक किस दिशा में होना चाहिए ?

घर में पानी का टैंक किस दिशा में होना चाहिए इस बात को लेकर लोग हमेशा इस दुविधा में रहते है की पानी की टंकी कहाँ बनाये। अगर गलत दिशा में बना दिया तो बाद में दिक्कत हो सकती है और इसे बदलना बहुत मुश्किल रहता है। आपकी इस समस्या का समाधान आज की इस पोस्ट में हम करेंगे। आज हम आपको बताएँगे की घर पानी का टैंक किस दिशा में होना चाहिए और इसके क्या फायदे है?

ये भी पढ़े   कैसे करें नए घर में प्रवेश ग्रह प्रवेश का महूर्त क्यों है जरुरी

घर में पानी का टैंक किस दिशा में होना चाहिए

घर में पानी का टैंक हमेशा पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम दिशा में बनाना चाहिए। याद रखें कभी भी पानी की टंकी दक्षिण-पूर्व दिशा में नहीं बनानी चाहिए अन्यथा इससे आपको धन का नुकसान उठाना पड़ सकता है और कोई दुर्घटना हो सकती है। पानी की टंकी का निर्माण हमेशा पश्चिम दिशा में ही शुभ माना जाता है क्योंकि यह दिशा वरुण देव की दिशा है और जो की जल का देवता है। पश्चिम दिशा में पानी की टंकी शुभ मानी जाती है ।

घर में पानी का टैंक कहाँ होना चाहिए

इसलिए पश्चिम दिशा में पानी की टंकी बनाने से आप पर वरुण देव की कृपा बनी रहती है। पानी की टंकी को ऐसी जगह बनाये जहाँ उस पर सूर्य की किरण प्रवेश करें। हमेशा याद रखें की पानी की टंकी को उत्तर-पश्चिम दिशा में नहीं बनाना चाहिए। अगर इस दिशा में पानी की टंकी बना रहे है तो टंकी का आकार छोटा रखे तथा इसकी दुरी उत्तर-पश्चिम दिशा के कार्नर से कम से कम दो फीट होनी चाहिए। पानी का टैंक पर कभी भी प्लास्टिक का ढक्कन ना लगायें। अगर आप प्लास्टिक का ढक्कन
लगा रहे है तो वह नीले और काले रंग के होने चाहिए क्योंकि यह सूर्य की उष्मा के अच्छे अवशोषक माने जाते है। अगर घर में पानी का टैंक सही दिशा में रहेगा तो घर के लोगों का स्वास्थ्य सही रहेगा और घर में सुख-शान्ति रहेगी तथा घर में सकारात्मक
ऊर्जा प्रवेश करेगी, किसी भी तरह का मानसिक तनाव भी नहीं होगा।

ये भी पढ़े   भूलकर भी न रखे अपने बच्चे के कमरे में ये चीजे

पानी का टैंक कहां बनाना चाहिए

नहाने की जगह भी पूर्व दिशा में शुभ मानी जाती है। एक बात याद रखें घर में किसी भी जगह से पानी का रिसाव नहीं होना चाहिए अन्यथा घर में भुखमरी की स्थिति पैदा हो सकती है। अगर आप पानी का टैंकउपर भी रख रहे है तो ध्यान रखे की नीचे किसी व्यक्ति का बेड तो नहीं आ रहा है और अगर आ रहा है तो दोनों में से एक चीज खिसका दे।

अंडरग्राउंड वाटर टैंक वास्तु इन हिंदी

नोट :- अगर पानी का टंकी गलत दिशा में बन गया है तो उस पर सफ़ेद रंग करवा दीजिये जिससे कुछ दोष दूर हो जायेंगे क्योंकि पानी का टैंक को शिफ्ट करना मुश्किल है और अंडरग्राउंड] पानी का टैंक को तो बिलकुल बदल नहीं सकते।
इस पोस्ट में आप अच्छे से समझ गए होंगे की पानी का टैंक कहाँ और क्यों लगाना चाहिए। उम्मीद करता हु की यह पोस्ट आपको पसंद आई होगी और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे।

Previous Post
optimized-mdac-1200x900
जिंदगी

nabhi chakra in hindi

Next Post
vastu-tips_1542715181
वास्तु

भूखंड से संबंधित वास्तु टिप्स – vastu for plots