toilet seat vastu

वास्तु शास्त्र के अनुसार शौचालय में टॉयलेट सीट की दिशा क्या होनी चाहिए ?

वास्तु शास्त्र के अनुसार शौचालय नकारात्मक ऊर्जा का स्रोत है इसलिए इसको सही दिशा के अनुसार बनाना बहुत जरुरी है और इसके लिए आप की अच्छे ज्योतिष से परामर्श ले सकते है। क्योंकि अगर शौचालय बनाते समय दिशा का ध्यान नहीं रखा गया तो बाद में गंभीर परिणाम भुगतना पड़ सकता है। 

पुराने समय में नकारात्मक ऊर्जा को रोकने के लिए शौचालय और स्नानघर दोनों अलग-अलग बनाये जाते थे लेकिन आजकल जगह की कमी और अल्पज्ञान के कारण लोग दोनों को एक साथ बनाते है जिस वजह से वास्तु दोष उत्पन्न होता है। 

ऐसे में कुछ उपाय करके आप शौचालय वास्तु दोष निवारण कर सकते है और इसके उपाय मेने अपनी पिछली पोस्ट में बताये है। अब बात आती है टॉयलेट सीट की दिशा, की क्योंकि टॉयलेट में सबसे जरुरी टॉयलेट सीट ही होती है। आज की इस पोस्ट में हम आपको टॉयलेट सीट की दिशा के बारे में बताएँगे।

वास्तु के अनुसार टॉयलेट सीट की दिशा

  • टॉयलेट करते समय मुख किस तरफ होना चाहिए
    • वास्तु शास्त्र के अनुसार टॉयलेट सीट हमेशा नैऋत्य (दक्षिण-पश्चिम) दिशा में रखें। 
  • वास्तु के अनुसार शौच करते समय मुख किस दिशा में होना चाहिए?
    • शौच करते समय दक्षिण या पश्चिम  दिशा 
  • वास्तु के अनुसार शौच करते समय टॉयलेट का दरवाजा पूरा बंद होना चाहिए। 

वास्तु के अनुसार टॉयलेट बनाते समय ध्यान दे यह बातें 

ये भी पढ़े   कैसा हो पूर्व मुखी घर का नक्शा? किस दिशा में रखने से आएगी लक्ष्मी?

 

उम्मीद करता हूँ की वास्तु शास्त्र के अनुसार शौचालय में टॉयलेट सीट की दिशासे संबधित पोस्ट आपको पसंद आई होगी और अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे ताकि हम आगे भी ऐसी अच्छी पोस्ट आपके बीच ला सके।  

 

Previous Post
केतु ग्रह को कैसे मजबूत करें
ग्रह गोचर

केतु ग्रह को कैसे मजबूत करें, केतु के दुष्प्रभाव से कैसे बच्चे

Next Post
kinnar
जिंदगी

किन्नर को दान में दे ये चीजें, चमक जाएगी आपकी किस्मत