वास्तु के अनुसार परदे

वास्तु के अनुसार इन दिशाओं में लगाएं इस रंग का परदा

हमारे जीवन में वास्तु का उतना ही महत्व है जितना जीने के लिए साँसों का। आज हमारी जिंदगी की हर छोटी से छोटी चीज वास्तु के हिसाब से प्रभावित होती है। घर, ऑफिस, फैक्ट्री आदि सभी जगहों पर वास्तु का विशेष ध्यान रखा जाता है ताकि किसी तरह की समस्या बाद में ना आये।

घर बनाने से पहले काफी लोग वास्तु का पूरा ध्यान रखते है और सही दिशाओं के अनुसार काम करते है। बाथरूम, रसोई-घर, बेडरूम, टैंक। पूजा घर आदि किस दिशा में होंगे इसका ध्यान में भी वास्तु के अनुसार पूरा रखा जाता है। इतना ही नहीं घर में कौनसा रंग वास्तु के हिसाब से शुभ है और कौनसा अशुभ उसका भी ध्यान रखा जाता है।

एक समय था जब लोग घरों में पर्दों का प्रयोग नहीं करते थे लेकिन समय के साथ-साथ परम्पराएँ भी बदल गई और आज के समय में लगभग हर घर में पर्दों का इस्तेमाल होता है। कमरों को सुंदर और भव्य दिखाने के लिए लोग अपने घरों में अच्छे से अच्छे पर्दों का इस्तेमाल करते है। लोग अब पर्दों को कमरे के रंग के हिसाब से खरीदना पसंद करते है।

आजकल लोग वास्तु के प्रति इतने सजग हो चुके है की अब तो कमरे के पर्दें भी वास्तु के हिसाब से खरीदे जाने लगे है। पहले घर में एक पर्दें से काम चल जाता था लेकिन अब घर और कमरों को नया लुक देने के लिए तरह-तरह के डिजाइनिंग पर्दें खरीदे जाने लगे है।
अगर आप भी नए पर्दें खरीदने की सोच रहे है तो वास्तु का ध्यान रखकर खरीदें, इससे आपको फत्दा होगा। आईये जानते है वास्तु के हिसाब से कौनसे रंग के पर्दें शुभ माने जाते है।

ये भी पढ़े   भूलकर भी घर पर इस दिशा में न रखें पानी की टंकी जान ले water tank vastu in hindi | वास्तु के अनुसार पानी की टंकी



वास्तु के अनुसार किस दिशा में लगायें कौन से रंग का परदा

  • अगर आप नौकरी के लिए प्रयास कर रहे है लेकिन हजार कोशिश के बाद भी अच्छी नौकरी हाथ नहीं लग रही है और व्यापार में लाभ नहीं मिल रहा है तो घर में पूर्व दिशा में हरे रंग के पर्दे लगायें। एक बात का ध्यान रखें पर्दें हमेशा दो परतों वाले होने चाहिए।
  • अगर घर-परिवार में लड़ाई-झगड़े चल रहे है और किसी वजह से तनाव और मनमुटाव चल रहा है तो घर की दक्षिण दिशा में लाल रंग के पर्दे लगाना शुभ माना जाता है। लाल रंग का प्यार का प्रतीक माना जाता है, इसलिए इस रंग के पर्दे लगाने से प्रेम बढ़ता है और घर में शांति रहती है।
  • अगर बार-बार कोशिश और मेहनतकरने के बाद भी सफलता हाथ नहीं लग रही है तो घर की पश्चिम दिशा में सफ़ेद रंग के पर्दे लगाना बेहतर माना जाता है।
  • अगर आपके उपर लगातार कर्जा बढ़ता जा रहा है तो आपको घर की उतर दिशा में सफ़ेद रंग के पर्दे लगाने चाहिए। इससे आपको कुछ ही दिन में फायदा होने लग जायेगा।






वास्तु के अनुसार किस रंग के पर्दे का क्या महत्व है?

हरा रंग

हरा रंग सकारात्मक ऊर्जा और विकास का प्रतीक है। यह रंग शरीर के स्नायु तन्त्र को मजबूत करता है और दिमाग को शांत करता है। इसलिए हरे रंग को अच्छे स्वास्थ्य का प्रतीक भी माना जाता है। इसलिए सभी हॉस्पिटल में हरे रंग के पर्दे का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि यह रंग बीमार आदमी को जल्दी स्वस्थ होने की ताकत देता है। अगर आप पढ़ाई के रूम में इस रंग के पर्दे का इस्तेमाल करते है तो आपकी एकाग्रता बढती है।

ये भी पढ़े   Vastu tips in Hindi for home construction




बैंगनी रंग

यह रंग भरोसे और निष्ठा का प्रतीक है। अगर आप घर का वातावरण शांत और खुशनुमा बनाना चाहते है तो घर में बैंगनी रंग के पर्दे लगायें। यहरंग व्यक्ति को आध्यात्म से भी जोड़ने की कोशिश करता है।

लाल रंग

लाल रंग बहादुरी, शक्तिऔर प्रेम का प्रतीक है। बेडरूम में कभी भी इस रंग का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यह रंग तेजी से दिमाग पर चढ़ता है। जो लोग छोटी-छोटी बातों में नर्वस हो जाते है उनके लिए यह रंग हानिकारक हो सकता है। लेकिनयह प्यार का प्रतीक भी है इसलिए दक्षिण दिशा में लाल रंग के पर्दों का इस्तेमाल कर सकते है।

पीला रंग

पीला रंग ज्ञान, तपस्या, धैर्य और आध्यात्म का प्रतीक है। इस रंग का प्रयोग पूजा घर में करना शुभ माना जाता है। आप पूजा घर में पीले रंग के पर्दें लगा सकते है।

नारंगी रंग

यह रंग आपकी सोच में गंभीरता लाता है। अगर रिलेशनशिप में किसी तरह की दिक्कत आ रही है तो आप अपने बेडरूम में नारंगी रंग के पर्दे लगा सकते है।



सफ़ेद रंग

सफ़ेद रंग शांति प्रदान करने वाला रंग है। यह रंग सर्वगुण सम्पन्न रंग है। अगर आपका बेडरूम उतर-पश्चिम या केवल पश्चिम दिशा में है तो आप उसमे सफ़ेद रंग के पर्दे लगा सकते है। यह रंग दिमाग को शांति प्रदान करता है।

टैग्स:
Previous Post

वास्तु शांति मुहूर्त, गृह प्रवेश मुहूर्त-21 | Griha pravesh muhurat

Next Post
क्रासुला के पौधें के फायदे
पौधे

क्या हो जाता है जब लगा लेते है क्रॉस्सुल का पौधा ? क्रसुला लगाने के फायदे