शौचालय वास्तु दोष निवारण

दक्षिण-पूर्व दिशा में शौचालय हो तो क्या करें? South East Toilet Vastu Remedies In Hindi

वास्तु शास्त्र के अनुसार हमारे घर का हर एक कमरा और हर चीज़ सही तरीके से और सही जगह पर रखी होनी चाहिए। कई बार ऐसा देखा जाता है की लोग घर बनवाते टाइम टॉयलेट के निर्माण में ज्यादा सावधानी नहीं रखते है,और उस पर बाकी जगह जितना ध्यान नहीं देते है। जबकि ये जगह भी हमारी निवास का विशेष हिस्सा है। वास्तु कहता है कि दक्षिण- पूर्व दिशा में टॉयलेट बनवाना अशुभ माना जाता है। 

दक्षिण-पूर्व दिशा में शौचालय हो तो क्या करें

दक्षिण-पूर्व दिशा में शौचालय होने से आपको धन की हानि हो सकती है, और साथ ही आपके बिज़नेस में भी दिक्कतें आ सकती है। गलत तरीके से और गलत जगह पर टॉयलेट बना हो तो वो पुरे परिवार के लिए दुर्भाग्य की वजह बन सकता है। अगर आपका टॉयलेट भी गलत जगह पर बना हो तो कोशिश कीजिये कि वहां से हटा कर दूसरी जगह बनवा लिया जाये, लेकिन अगर ऐसा पॉसिबल न हो तो आपको क्या करना है उसके लिए वास्तु के कुछ टिप्स हम आपको बताने जा रहे है। 

दक्षिण पूर्व में शौचालय वास्तु दोष निवरण

दक्षिण-पूर्व में लकड़ी लगाये और समुद्री नमक रखें अगर आपके घर में दक्षिण-पूर्व कोने से टॉयलेट को हटाना पॉसिबल नहीं है तो उस दिशा में ज्यादा से ज्यादा लकड़ी लगाई और वहाँ पर समुद्री नमक का एक कटोरा रख दे इस नमक को हर 8 दिन में बदलते रहे। ऐसा करके उसके बुरे प्रभावों से बचा जा सकता है।

ये भी पढ़े   वास्तु शास्त्र में दिशाओं का महत्व

पिरामिड वास्तु दोष निवारण, vastu pyramid for south east toilet

[amazon box=”B01LAKC5AQ” template=”horizontal”]

दक्षिण-पूर्व में टॉयलेट होने से पूरे घर के सदस्यों को नुक्सान पहुंचता है। इस दिशा में बने टॉयलेट से वास्तु दोष को दूर करने के लिए अपने टॉयलेट की दक्षिणी दीवार पर पिरामिड लगाइये। ये बहुत अच्छा उपाय माना गया है।

अगर उत्तर पूर्व दिशा में टॉयलेट हो तो क्या करें

ये भी पढ़े   वास्तु के अनुसार सेप्टिक टैंक कहाँ बनाये (दक्षिण मुखी घर)

 

  • अगर टॉयलेट में आइना लगवाना हो तो उत्तर और पूर्व की दीवार पे लगवाये।
  • टॉयलेट की दीवारों पर लाइट कॉलोअर्स का पेंट होना चाहिए। इसमें नीले (ब्लू) रंग की बाल्टी और मग का यूज़ करना भी अच्छा होता है।
  • इसमें बड़ी खिड़की(विंडो) उत्तर दिशा में और छोटी खिड़की पश्चिम दिशा में होनी चाहिए। टॉयलेट का दरवाजा पूर्व में या उत्तर-पूर्व में ही बनवाइए। 

इन बातों का ध्यान रखिये और बताये गए उपाय कीजिये तो आपके वास्तु दोष दूर होंगे और घर में पॉजिटिव एनर्जी आएगी। 

 

Previous Post
दुकान में बरकत के उपाय
दुकान

दुकान में बरकत के लिए उपाय – दुकान में ग्राहक बढाने के उपाय

Next Post
शुक्र ग्रह को कैसे मजबूत करें, shukra grah ko kaise majbut karen
ग्रह गोचर

शुक्र ग्रह को कैसे मजबूत करे, शुक्र ग्रह को मजबूत करने का मंत्र, शुक्र ग्रह का उपाय