सपने का अर्थ

सपने का अर्थ जानिए व बदलिए ज़िन्दगी की रफ़्तार

हर सपने का अर्थ होता है,   वैज्ञानिक एवं ज्योतिषी दोनों ही मानते हैं ।  हर सपना अपने आप में कुछ कहता है। जब हम नींद में होते हैं तो जो घटनाएँ हमें चल चित्र की तरह दिखाई देती हैं। वही सपने कहलाती हैं।सपने दो तरह के होते हैं एक वो जिन्हें हम जागती आँखों से देखते हैं।  एक वो जो हम सोने के बाद नींद में देखते हैं। यहाँ हम बात नींद वाले सपनों की कर रहे हैं । सपने का अर्थ क्या होता है ? सपने क्यों दिखते हैं? सपने हमें कब दिखते हैं ? आइये विस्तार से जानते है सपनों की अद्भुत दुनिया को

सपने का अर्थ वैज्ञानिकों के अनुसार

वैज्ञानिक के अनुसार सपने का अर्थ हमारे अवचेतन मस्तिष्क की कल्पना है। वैज्ञानिक कहते हैं कि,  सपने हमारे मन की वह अतृप्त इच्छाएं हैं जो पूरी नहीं हो सकी है। सपने हमारा बीता हुआ कल है जो हमारी स्मरण शक्ति के अंदर कहीं दबा हुआ है। जो बीत तो गया है पर हमारा हृदय उस बीते हुए कल को बीता हुआ मानने को तैयार नहीं है। वैज्ञानिकों के अनुसार सपने हमने जो पूरे दिन सोशल मीडिया में देखा, दिन में जो किया उसका प्रतिबिंब होते हैं। सपने के अर्थ भी उन्ही गतिविधियों पर आधारित होते हैं।

सपने आने का वैज्ञानिक कारण 

वैज्ञानिकों के अनुसार, सपने हमारे अवचेतन मन में अपनी जगह बना लेते हैं जब हम नींद में होते हैं तब हमारा बाहरी मस्तिष्क सुसुप्त अवस्था में होता है किंतु हमारा अवचेतन मस्तिष्क जो कुछ भी दिन भर में बीता उसकी गणना में व्यस्त होता है। सपने हमें बीती हुईं घटनाओं के साथ साथ आने वाली घटनाओं का भी का लेखा जोखा देते हैं।

ये भी पढ़े   Vastu shastra sleeping direction

ज्योतिषी के अनुसार सपने का अर्थ

ज्योतिषी के अनुसार सपने का एक विशेष अर्थ होता है। हर सपना सकारात्मकता या नकारात्मकता लिए हुए होता है। सपनों के माध्यम से हमारे ईष्ट, हमारे शुभ चिंतक – हमारे पूर्वज हमें संदेश देना चाहते हैं। सपने का अर्थ सकारात्मकता लिए होता है तो, हम अपने कार्य को प्रभु की इच्छा मानकर तल्लीनता से करते हैं। अगर संदेश में नकारात्मकता होती है तो हम उस सपने का अर्थ समझने की कोशिश करते हैं। उसी अर्थ के अनुसार सपने की गंभीरता को समझते हैं। सपने में किसी कार्य को करने से करने से मना किया जाता है तो, हमें वह कार्य नहीं करना चाहिए। कार्य अति आवश्यक हो तो प्रभु से क्षमा प्रार्थना कर दीन दुखियों की यथा योग्य मदद कर इस कार्य को प्रभु के हवाले कर शुरू करना चाहिए।

सपने के सकारात्मक संदेश का अर्थ

ज्योतिष के अनुसार सपने का अर्थ हमारे कर्म फल, हमारे पूर्वजों के आशीर्वाद का संकेत देता हैं। सपने हमें बताते हैं कि हमारे पूर्वज हमसे खुश हैं या नहीं। उनकी आत्मा को शांति मिल पाई है अथवा नहीं। अगर हम अच्छे कार्य करते हैं तो हमारे चारों तरफ एक सकारात्मक ऊर्जा अपना घेरा बना लेती है। सकारात्मक ऊर्जा हमें सपनों में संकेत के द्वारा आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है सकारात्मक ऊर्जा हमें बताती है कि  हम अपने कार्य को अभी करने की स्थिति में है या नहीं।

सपने के नकारात्मक संदेश का अर्थ

सपने के नकारात्मक संदेश का अर्थ है कि, अभी सही समय नहीं है तो नया काम शुरू न करें, ईश्वर का ध्यान करेंं व उचित अवसर का सदुपयोग करें, ऐसे सपने जो सुबह-सुबह आते हैं. उनके सफल व सच होने के अवसर अधिक होते हैं।

ये भी पढ़े   वास्तु के अनुसार कौन कौन सी चीजे गिफ्ट में नही देनी चाहिए?

सपने का अर्थ समझना

कुछ सपने हमें याद रहते हैं कुछ सपनों को हम भूल जाते हैं।सबसे पहले तो हमें इस बात का ध्यान रखना है कि, हमने सपना क्या देखा था? अपने सपने का अर्थ सबसे बेहतर हम ही समझ सकते हैं। उस सपने को देखने के बाद हमारी मनोदशा क्या थी इस पर भी सपने का अर्थ निर्भर करता है।

Previous Post
वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का नक्शा
मकान

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का नक्शा- Vastu For House In Hindi

Next Post
सपने में शिवलिंग देखना
सपने

क्या आपको दिखाई दिया महादेव का शिवलिंग ?