maxresdefault (1)

16 दिशाओं के अनुसार तिजोरी तिजोरी की दिशा क्या होनी चाहिए? – tijori kis disha me rakhe

वास्तु के अनुसार घर में तिजोरी की दिशा - tijori ki disha

आप दिन रात मेहनत करते है और आप पैसे भी कमाते है फिर भी आप पैसों की बचत नहीं कर पाते हो तो इस बात पर को विशेष ध्यान देना चाहिए क्या इन सब के पीछे आप के घर में छिपा वास्तु दोष तो कोई बाधा नहीं बन रहा है। वास्तु दोष इन सब के पीछे ककई वजह हो सकता है। घर आदि के निर्माण के समय वास्तु का ध्यान न रखना एक बहुत बड़ी समस्या बन सकता है। जैसे तिजोरी को रखने की दिशा में भी कोई न कोई वास्तु दोष छुपा हो सकता है। आप को जान कर अचरज हुआ होगा परंतु यह सत्य है अगर तिजोरी को रखने की दिशा सही नहीं है तो आप के द्वारा कमाया गया धन आप के पास ज्यादा समय तक नहीं टिकता है। आज हम इस लेख में तिजोरी को कहाँ रखना चाहिए और नहीं आदि बातों पर चर्चा करेंगे।

धन लाभ के लिए करे ये उपाय

धन संबंधी लाभ चाहते हैं तो तिजोरी का मुंह उत्तर या पूर्व दिशा में रखना चाहिए। धन के स्थान को सुगंधित बनाए रखना चाहिए। इसके लिए अगरबत्ती, इत्र, परफ्यूम आदि का उपयोग किया जा सकता है। तिजोरी के दरवाजे पर कमल के आसन पर बैठी हुई महालक्ष्मी की तस्वीर लगानी चाहिए। तिजोरी वाले कमरे में सिर्फ एक ही दरवाजा होना चाहिए वो भी दो किवाड़ वाला।

ये भी पढ़े   Vastu shastra tips for money in hindi

कोनसी तिजोरी की दिशा है वास्तु के अनुसार शुभ?

जिस तिजोरी या अलमारी में कैश व ज्वेलरी रखते हैं उसे कमरे में दक्षिण की दीवार से लगाकर रखें। इससे अलमारी का मुंह उत्तर की ओर खुलेगा। इस दिशा के स्वामी देवताओं के खजांची कुबेर हैं। उत्तर दिशा में अलमारी का मुंह खुलने से धन और ज्वेलरी में बढ़ोतरी होती है।
अगर आपकी तिजोरी का मुंह दक्षिण दिशा की ओर खुलता है तो जल्दी से जल्दी तिजोरी का स्थान बदल दें। दक्षिण दिशा का स्वामी यम है। इस दिशा में तिजोरी का मुंह खुलने से रोग एवं अन्य दूसरी चीजों में धन का व्यय बढ़ जाता है। इस दिशा में धन रखने से धन की हानि होती है। वास्तु विज्ञान के अनुसार इस दिशा में ज्वेलरी रखने से ज्वेलरी की वृद्धि रूक जाती है।
वस्तुशास्त्र में पूर्व दिशा को ऊर्जा और उन्नति की दिशा कहा गया है। इस दिशा के स्वामी देवताओं का राजा इन्द्र है। इसलिए धन-संपत्ति में वृद्धि की आशा रखने वाले को तिजोरी और धन रखने वाली अलमारी को पश्चिमी दीवार से लगाकर रखना चाहिए। इससे तिजोरी और अलमारी का मुंह पूर्व दिशा की ओर खुलेगा और देवराज की कृपा दृष्टि आप पर बनी रहेगी।

खाली ना रहे तिजोरी

अगर आप चाहते है आप की तिजोरी काभी खाली ना हो आप तिजोरी में अक्षत रखें और इस पर विशेष ध्यान दें कि अक्षत कभी खत्म ना हो।  चाहे वो आपके घर में रखी हो या व्यापारिक स्थल पर।  मान्यता है कि तिजोरी में अक्षत रखने से मां लक्ष्मी और कुबेर की कृपा बनती है।

ये भी पढ़े   वास्तुशास्त्र के द्वारा घर के खर्चों को कैसे कम करें? और समृद्धि प्राप्त करें

कैसा हो बैडरूम का नक्शा?

वास्तु शास्त्र के मुताबिक यदि आप कोई सेल्फ या तिजोरी, बेडरूम में रखना चाहें तो उसे दक्षिण की दीवार के साथ रख सकते हैं, खुलते समय उसका मुंह धन की दिशा, उत्तर की तरफ खुलना चाहिए। बेडरूम के साथ लगता बाथरूम, कमरे के पश्चिम या उत्तर दिशा में होना चाहिए। इसी तरह दक्षिण-पश्चिम, पश्चिम कोना कभी खाली नहीं रखा जाना चाहिए। ड्रेसिंग टेबल के साथ दर्पण पूर्व या उत्तर की दीवारों पर तय की जानी चाहिए। अलमारी शयन कक्ष के उत्तर पश्चिमी या दक्षिण की ओर होना चाहिए। टीवी, हीटर और एयर कंडीशनर को दक्षिण पूर्वी के कोने में स्थित होना चाहिए।

पूजा घर मे या भगवान की मूर्ति के नीचे तिजोरी नहीं होनी चाहिए जैसा की अमूमन दुकानदार रखते है जो की लाभारी नहीं होती है। अतः तिजोरी और पुजालय अलग अलग जगह होने चाहिए।
इन तरीकों को अपना कर आप कमाए गए धन को सहज कर रख सकते है और व्यापार में भ उचित लाभ हो सकता है।

Previous Post

कही आपने भी तो नहीं लगाया इस दिशा में **मनी प्लांट** ?

Next Post
sleeping disorder
जिंदगी

कहीं आपकी नींद उड़ने का कारण वास्तु दोष तो नहीं ?