Aquarium

फिश एक्वेरियम से जुड़े वास्तु टिप्स

आजकल घर में यूनिक चीजों को रखने का चलन बढ़ रहा है जिसमे लाफिंग बुद्धा, कछुआ आदि। इसी तरह लोग अपने घर में फिश एक्वेरियम रखना बहुत पसंद करते है और यह घर की सुन्दरता में भी चार-चाँद लगा देता है। पानी में घुमती हुयी मछलियां एक बार मन को भा जाती है।
चीनी वास्तुशास्त्र फेंगसुई के अनुसार फिश एक्वेरियम घर में रखना बहुत शुभ माना जाता है। फेंगसुई के अनुसार घर में फिश एक्वेरियम रखने से घर में सुख-शांति रहती है और उसमे रखी मछलियां घर के सदस्यों पर आने वाली मुसीबतों को टालती है।
लेकिन घर में फिश एक्वेरियम रखने के दौरान वास्तु का ध्यान देना बहुत जरुरी है क्योंकि अगर इसे सही वास्तु के हिसाब से नहीं रखा गया तो फायदे की जगह इसके नुकसान हो सकते है। आईये जानते है फिश एक्वेरियम से जुड़े वास्तु टिप्स के बारे में।






फिश एक्वेरियम से जुड़े वास्तु टिप्स

  • फिश एक्वेरियम को हमेशा पूर्व, उतर या उतर-पूर्व दिशा में रखना चाहिए क्योंकि इस दिशा में रखने से घर में पॉजिटिव एनर्जी आती है और शांति का माहौल रहता है।
  • किचन में कभी भी फिश एक्वेरियम को नहीं रखना चाहिए क्योंकि इस दिशा में आग से जुडी चीजें होती है और आग अग्नि देवता का कारण है तथा फिश एक्वेरियम पानी से जुडी चीज है और आग तथा पानी एक दुसरे के शत्रु है, इसलिए फिश एक्वेरियम को कभी भी रसोईघर में नहीं रखना चाहिए।
  • फिश एक्वेरियम में समय-समय पर पानी बदलते रहे क्योंकि पानी ज्यादा पुराना होने पर उसमे नेगेटिव एनर्जी बढ़ने लगती है जो की वास्तु के हिसाब से अशुभ है।
  • फिश एक्वेरियम में मछलियों की संख्या कम से कम 9 होनी चाहिए। इसमें एक मछली काले रंग की और 8 मछलियां लाल और सुनहरे रंग की होनी चाहिए क्योंकि ऐसा वास्तु के हिसाब से शुभ माना जाता है। काले रंग की मछली सुरक्षा का प्रतीक होती है और घर-परिवार पर आने वाले खतरों को टाल देती है।
  • अगर फिश एक्वेरियम में किसी वजह से कोई मछली मर जाए तो उसे बाहर निकालकर किसी तालाब या नदी में बहा दे। इस बात का विशेष ध्यान रखें की जिस रंग की मछली मरी है उस रंग की नई मछली लाकर एक्वेरियम में रखें। मरी हुयी मछली का एक्वेरियम में रहना अशुभ माना जाता है। मछली के मरने का मतलब है की आप पर आने वाली कोई बड़ी आपदा टल चुकी है क्योंकि मछली हर आपदा को अपने उपर ले लेती है।
  • घर में सुख-शांति और धन वृद्दि के लिए फिश एक्वेरियम को दक्षिण-पूर्व दिशा में रखना शुभ माना जाता है।
  • घर के बीच में और बेडरूम में कभी भी फिश एक्वेरियम को नहीं रखना चाहिए। वास्तु और फेंगसुई के अनुसार फिश एक्वेरियम के लिए यह निषेध स्थान है।
  • किसी तरह की प्राकृतिक रौशनी में फिश एक्वेरियम को रखने से मानसिक तनाव पैदा होने लगता है।
  • फिश एक्वेरियम में पांच तत्व धरती, पानी, कंकड़-पत्थर, हवा, आग आदि सभी का समावेश रहता है। पानी उसमे होता है, अग्नि के रूप में मछली का सुनहरा रंग, कंकड़-पत्थर भी फिश एक्वेरियम में होते है। इसलिए घर में फिश एक्वेरियम रखना बहुत शुभ माना जाता है।
  • फिश एक्वेरियम को कभी भी प्रवेश द्वार के पास नहीं रखना चाहिए।
  • घर में फिश एक्वेरियम रखने से धन, सुख-शांति, सफलता और प्रेम बढ़ता है।
  • फिश एक्वेरियम की साफ़-सफाई रखना बहुत जरुरी है, उसमे मछलियों का भी विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। मछलियों का भोजन मछलियों को समय-समय पर देना चाहिए।
  • मछलियां अच्छे शगुन का प्रतीक होती है इससे घर पर किसी की बुरी नजर नहीं पड़ती और आने वाली आपदा को मछलियां अपने उपर ले लेती है।
  • जब आप थक चुके होते है तो इन मछलियों की तरफ देखें इससे आपका दिमाग शांत होगा और आपको आराम मिलेगा।
  • फेंगसुई के अनुसार घर में फिश एक्वेरियम रखने से ची नाम की ऊर्जा आती है जिससे घर के लोगों का स्वास्थ्य अच्छा रहता है और धन-सम्पदा में वृद्दि होती है।
  • अगर फिश एक्वेरियम में रखी मछलियों को आप रोजाना दाना देते है तो इससे आपको करियर में सफलता मिलती है और कार्य में प्रगति होती है।
ये भी पढ़े   किस दिशा में रखे चप्पल स्टैंड नहीं रहेगी कभी कोई कमी
Previous Post
friends
जिंदगी

दोस्तों को दुश्मन बना सकती है वास्तु की यह गलतियाँ

Next Post

किस दिशा में रखे चप्पल स्टैंड नहीं रहेगी कभी कोई कमी