वास्तु के अनुसार बोरिंग कहाँ होना चाहिए

वास्तु के अनुसार बोरिंग कहाँ होना चाहिए

water tank vastu in hindi



वास्तु हमारे जीवन में कितना महत्वपूर्ण है यह हम सब जानते है। व्यक्ति, घर, परिवार, मित्र, फैक्ट्री, कारखाना आदि सभी जगह पर वास्तु का ध्यान रखना बहुत जरुरी है। घर में हर छोटी से बड़ी चीज का ध्यान वास्तु के हिसाब से रखना जरुरी है अन्यथा बाद में तकलीफ हो सकती है।
ऐसी ही एक सुविधा पानी की भी है जिसमे भी वास्तु का ख़ास ध्यान रखना जरुरी है। हर घर में पानी की जरूरत को पूरा करने के लिए बोरिंग/कुआं/भूमिगत पानी की टंकी आदि बनाते है जहां पानी का भण्डारण हो सके और घर के सदस्यों को बिना तकलीफ के पानी मिल सके।






वास्तु के अनुसार बोरिंग की भी एक ख़ास दिशा होती है और उस दिशा का ध्यान रखना बहुत जरुरी है। इसके अलावा बोरिंग को लेकर कुछ दिशा-निर्देश भी वास्तु में बताये गए है जिनका पालन करना बहुत जरुरी है। आईये जानते है वास्तु के हिसाब से बोरिंग कहाँ होना चाहिए?

vastu for water tank

वास्तु के अनुसार बोरिंग कहाँ होना चाहिए

बोरिंग के लिए वास्तु में पूर्वी ईशान या उतरी ईशान कोण को सही बताया गया है। अगर इस दिशा में संभव ना हो तो उतर दिशा में भी बोरिंग का निर्माण करवाया जा सकता है। लेकिन ध्यान रहें इस दिशाओं के अलावा किसी दिशा में बोरिंग का निर्माण करवाना वास्तु के हिसाब से अशुभ माना जाता है।

ये भी पढ़े   वास्तु शास्त्र के अनुसार घर का नक्शा कैसा होना चाहिए (दक्षिणा मुखी)




वास्तु में बोरिंग को लेकर दिशा-निर्देश

बोरिंग मेन गेट या मुख्य द्वार के सामने नहीं होना चाहिए। इसके अलावा बाथरूम की नाली या सैप्टिक टेंक के पास भी बोरिंग नहीं बनवाना चाहिए। बोरिंग के लिए ऐसे स्थान का चयन करें जहां आना-जाना भी कम हो और न कीचड़ ना हो।
घर में बोरिंग सही स्थान पर होने से घर के सदस्यों का स्वास्थ्य सही रहता है और घर में सुख-शान्ति रहती है।
बोरिंग पूर्व दिशा में होने पर मान-सम्मान और ऐश्वर्य में वृद्दि होती है।

  • अगर इसके विपरीत बोरिंग पश्चिम दिशा में बनाया जाए तो मानहानि और शारीरिक हानि होती है।
  • बोरिंग उतर दिशा में होने पर धन का लाभ होता है ।
  • दक्षिण दिशा में बोरिंग बनवाने पर धनहने, स्त्रीनाश होता है और जिंदगी दुखो से गुजरती है। पानी के लिए ईशान कोण सबसे शुभ माना जाता है और वास्तु में भी ईशान कोण को सबसे ज्यादा महत्व दिया गया है क्योंकि इस दिशा में देवता भी रहते है।
  • भूलकर भी आग्नेय कोण में पानी का टेंक या बोरिंग नहीं बनानी चाहिए अन्यथा यह आपके लिए घातक हो सकता है।
  • वायव्य कोण में बोरिंग बनाने से मानसिक अशांति मिलती है और मन अस्थिर रहता है तथा शत्रु-पीड़ा भी रहती है।
  • पानी का उतना ही प्रयोग करें जितने की आपको जरूरत है क्योंकि जल ही जीवन है और इसका सही से यूज़ करना बहुत जरुरी है। आप चाहे तो बरसात के पानी को स्टोर करने के लिए घर के बीच में एक बड़ा सा टेंक बना सकते है।
ये भी पढ़े   अगर आप भी करेंगे ये कम पूंजी का व्यापार तो हो जाएंगे मालामाल

water tank vastu in hindi

  • बोरिंग यानी जल स्थान के आसपास इन चीजों का खास ध्यान रखें बोरिंग के पास गंदगी नहीं होनी चाहिए।
  • आग से संबधित चीजें कभी भी पानी के पास ना रखें।
  • यहाँ कभी भूलकर भी गंदगी ना करें।
  • जल का स्थान ईशान कोण होता है इसलिए इसे कभी बंद ना रखें।
  • बोरिंग के पास कभी भी शौचालय ना बनवाएं।
  • बोरिंग के पास गंदे कपडे, जूठे बर्तन आदि ना धोएं।
Previous Post
कप्बोर्ड फॉर बैडरूम
जिंदगी

अगर ऐसी होगी कप्बोर्ड फॉर बैडरूम तो होगा लाभ – Cupboard For Bedroom

Next Post
breaking of glass according to vastu
जिंदगी

वास्तु के अनुसार कांच का टूटना Breaking Of Glass According To Vastu